Fri. May 20th, 2022

रूस के साइबेरिया में याकुटिया के बर्फीले संसार में जिंदगी किसी जद्दोजहद से कम नहीं है!

लेकिन यहां की 500 लोगों की आबादी ने बर्फ में जीवन के रास्ते तलाश लिए हैं स्कूली बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लासेज के नियम कायदे भी अनूठे हैं याकुटिया के ओमयाकोन में अभी 160 स्कूली बच्चे हैं!

सर्द मौसम में सेकेंडरी तक के बच्चों को माइनस 55 डिग्री सेल्सियस तक पारा गिरने के बावजूद स्कूल जाना पड़ता है!

7 से 11 साल के प्राइमरी स्कूल के बच्चों को माइनस 45 डिग्री सेल्सियस तक 12 जून तक स्कूल जाने के नियम है स्कूल जाने के लिए पारे के इस ‘पाठ’ में कोई ढिलाई नहीं बरती जाती है!

ओमयाकोन में शुक्रवार को पारा जिससे हुआ तो दुनिया के इस सबसे सर्द स्कूल में छुट्टी का ऐलान कर दिया गया है अब बच्चों की ऑनलाइन क्लासेस शुरु हो गई है ओम या कौन में एक ही स्कूल है 1932 से चल रहा है !

यह सीमेंट नहीं लकड़ी से बना है!

सर्दी की पाठशाला

स्कूल सुबह 9:00 बजे से शुरू होते हैं और शाम 5:00 बजे तक चलते हैं दोनों वक्त अंधेरा रहता है!

ज्यादातर बच्चे अपने पेरेंट्स और पालतू डॉग के साथ आते हैं कुछ बच्चे बस से भी आते हैं!

यह दुनिया का सबसे सर्द रिहायशी क्षेत्र यहां सब्जी नहीं उठती सभी लोग मांसाहारी हैं!

ओमयाकोन का मतलब बिना जमा पानी होता है क्योंकि यहां एक गर्म झरना बहता है

By shrinnn

I am this website's (Shrinnn.Com) Author and manager.

Leave a Reply